Menu

Use Behavioural Astrology

Blog posts March 2013

Dark Side of Entry Level Central Govt. Officer's job

I prefer Internet news instead  of  TV  news  or  Newspapers.  The reason is , internet news is immediately followed by Comments from Readers , who are more connected to grassroot realities about the news than the story writing journalist. Sometimes , the story is paid news by the concerned company. So, reading comments results in knowing truth behind propaganda.  I am giving here an example :

 Economic Times recently had a story on the financial prospects for the post of a new PO ( Probationary Officer ) of SBI.  I am giving the link here  : http://economictimes.indiatimes.com/news/news-by-industry/jobs/why-a-probationary-officer-post-at-state-bank-of-india-is-a-bankable-asset/articleshow/19051189.cms

 

In short , the story tells that this entry level bank officer's job has a CTC of Rs. 8 Lakhs and for 1500 posts , there are 17 lakh candidates, so it should be termed as most sought after job.

Now , let me give the other side of the story by quoting best of the comments  , from those, who are already doing that job : 

 

COMMENTS OF READERS  

 

1. T.R.Ramaswami (Mumbai)


"Is the writer a relative of a past Chairman of SBI - Mr. D. Basu?The training in SBI is literally "on the counter" and on confirmation every subordinate knows that you know the job. The only lacuna is a module on industrial relations -dealing with unions and associations - and disciplinary procedures. SBI was unique in its single signature operations till Harshad Mehta and Seetharaman spoiled it. Anyone can become the Chairman and no one knows it till the last 4/5 years. If you have a substantial SBI tenure on your CV, the interview is virtually over.  "   

2.  deepak kadam (ernakulam)

this is called window dressing....hiding the fact that u dont want to show. 69k is cruel joke to all unemployed youth. its fact that u get only 30k in hand. n ur life is hell. 9am life starts and min 9 pm in the night nothing left for ur personal life. clerks have fixed working time 10 to 5. officers are on 24 hrs duty..such a third class work culture. i m po in sbt and i have put down my papers......this advertisement is totally misleading youth....even they will get youth recruited they will not be able to retain the cream...

 

3. Deepak Goyal (New Delhi) 

 

 I joined as a PO in State Bank in 2009. I will give negative marks to the job. I will say "if you really very curious about the banking job, then join in clerical and stay there only, you will enjoy the life". Otherwise if you are not that curious then join any other job. It a system of harrasment only. Below are some observations of my 4 years experience: i) Highly hectic job. ii) Peanut salary. After some time you will see yourself highest garib in the industry "if you are honest". iii) Highly risky job. You can be caught for any kind of work even after 10 years. The time you enter in the premise of bank, you start working and up to end of the day 'if you have committed 500 tasks. You can be caught for any one of the 500 task at any time of your job. See the probability. All time you will remain in tension. iv) Transferrable job, in start you will say 'no problem'. But after some time, you will not like that at any cost. v) There is no enjoyment in moving upward in scale. The more you go up, you will have more responsibility and more tension. One can say 'Responsibility is base of the life'. But responsibility in Bank is a waste full thing and you will be called a fool only having more responsibility here. vi) You will be a rat. Read "rich dad poor dad" in this industry. Hindi me kahte hai ''' aisi job jise naa nigla jae naa hi thukaa (spit) jae". vii) Anyone fool of any kind can bite you. A Zero Balance customer or your boss, any one can make you panic. 

 

4. dilip (jodhpur)

We as a SBI P.O are much behind to other PSU ...our salary is equal to 3rd grade teacher of any state government . We are getting form -16 (Actual salary allowances parameter) , "excluding lease/rent of house which is directly being credited to land owners accounts and medical (if u fall ill only when)" of INR 3.50 lac (Not more than this). In hand We are getting 25000(salary) 5000(allowances) 1500 (All other perks including furniture ,briefcase, utensils ,transfers expenses.(.its 1500/- average of Ten year) ), means totally 31500/- per month.....Not more than this...100% authenticated .. Now choice is yours...want to come or not.... and be ready to Work seven days...because SBI is going to implement 7 days banking....... SBI Means Total harassment ....I CHALLENGE NO SBI EMPLOYEE IS HAPPY. And one last thing ONGC sweeper/ hygene employee is getting form -16 worth 10.00 lac per annum. ha ha ha Decide Your destiny

5. Ranjeet (Bodh Gaya)


All said and done....the bottom-line is that there is great pressure on the officers in SBI and very poor HR system that does not differentiate well between the right and the wrong employees...

6. Sandeep (Bangalore)

SBI jobs are no longer what they used to be. 6 days a week of work and longer hours for officers take major toll. Add to it, even if you want to work and help some needy customers, the old timers and the systems are not too friendly. Transfers of employees are not based on career progression but on unions' demands.

7. shrey (india) 

...there is a huge dearth of all kind of people at all the govt departments from sbi pnb to it and st department they just dont have enough money to hire them otherwise there is a staff crunch everywhere...there is nothing like pension for govt employes who joined after 2001 so just chill and read some newspapers everyday

 

8.  Tushar Sharda (Edmonton, Canada.)


A lot of competition for the post of PO but the biggest irony is that life deteriorates more than improving after joining as a PO, you get only Rs 30 K, that could be sufficient or good enough for some people, but still you are an officer and you still have to life in a single room, come on, it's a rubbish salary, you can't afford a car easily, you can't save much, you are always stressed and feel pressurized from higher authorities, meetings, targets, late evenings, attending all types of different people, I feel there is no other tougher job than a PO, i was once and I quit it for good. In India there's this one problem, everybody starts chasing what others are doing, Hold On, think yourself and then act wisely guys!

   If  you think,  it is true for government bank only , then you are wrong. This is true for any central government company (Central PSUs) entry level officer. Banks certainly are better paymasters , because they have all money plus big organised unions. They also have 50% more holidays and no night working.

In case of other PSUs engaged in technical and round- the- clock service areas like power , gas , oil ,coal ,railways etc , the working conditions are hazardous , polluted , threatening , devoid of civic facilities because of remote sites , poor law & order and low pays and delayed pay revisions etc. 

   Such jobs are good only for thick-skinned, politically strong and VIP connected employees, who enjoy during whole service life without any punishment , while unconnected one has to suffer whole life and if he tries to become a laggard , he is punished also. Private sector is better for such non-connected , hardworking person. 

  

Go Back

Does Name Spelling Change bring Good Luck ?

Among all mystical foretelling systems , numerology or predicting via numbers is considered easiest, so all failed professionals in other fields, try this profession as it requires minimum study and calculations and trouble free income from poorly informed advice seekers.


As far as I am aware , there is no Indian classical reference for predicting, using numbers alone. This whole numerology prediction came to India from western countries in last century.

For more than 5000 years, India has been having a consistent and rich astrology prediction system on sound mathematical model , so, numerology's predictive ability falls at last level to an average Indian after planetory astrology , palmistry and Samudrik Shaastra ( body signs ).

The recent upsurge in appeal of numerology in India , can be attributed to satellite TV channels in last 15 years and Mr. Sanjay B Jumaani, the TV age numerologist for Bollywood, swears by numerology for creating favourable change in destiny.

Following link gives his detailed interview on his understanding of numerology : Sanjay B Jumaani on Numerology

I have following reservations against use of numerology for prediction :

1. Mr. Jumaani says it is 5000 years old system . My point is that numbers may be in use for last 5000 years but their use for prediction is not very old and modern use dates back to only couple of centuries in western countries .See the link on wiki http://en.wikipedia.org/wiki/Numerology

2. Numerology is not an INDIAN system and it has come out mostly from old Jewish / Christian religion.

3. Numbers from 1 to 9 are used , which are neutral in nature. There is no use of zero perhaps due to its late invention.

4. The biggest issue in numerology is assigning number value to all letters in alphabet in sequence . Now, every language script has different numbers of letters in its alphabets like Hindi , Hebrew , Arabic , Japanese, English and so on . So, sound created by "B" letter in English will have number 2 for B but in Hindi , ब ( B ) will have different number assignment .

Therefore , the whole numerology falls flat without any logically sound structure and it plays only on the probability factor .

Changing Destiny by Spelling Change ?

 

Even if Mr Jumaani's claim to get favourable destiny just by adding / deleting a letter or number here and there , is assumed correct , then world's problems can be solved in a jiffy without much cost or effort. Unfortunately , Mr. Jumaani is not very sure about favourable change. I quote from his interview :

"Question : Can one have a bad number and still be lucky?

Answer : In our science we say that if your numbers are right then you are lucky. There are certain numbers which are materialistic and denote wealth, health and other things.

And if there are people who do not have good numbers yet seem to be very fortunate, then I can only say, it might happen because of somebody else's good number, it could be your spouse, your child or your house number.... "

As per Mr. Jumaani, if somebody can be still lucky without a lucky number ,then other way also it may be true i.e. you may get a good number from numerologist for you and still remain unlucky !


So, Mr. Jumaani himself is not clear whose name and number is to be changed for changing destiny .

For this, a numerologist may keep on experimenting by changing spellings of your name , spouse name, children's name, dog's name, city's name, apartment's name,flat number and so on . Probably, in the mean time, favourable change comes naturally and credit will go to numerologist.

Media brought him in limelight in 2000-2002 period for his contribution to Bollywood and Ekta Kapoor's TV serial naming , which all had starting with letter 'K" .

Bollywood is highly superstitious and it believes in everything from " Muhoorat Shot" ,numerology, astrology, tarot cards , Ajmer Sharif , Golden Temple , Vaishnodevi and any other shrine or system.

So, when TV serial or movie is hit , everybody including numerologist , advertises his claim to fame but despite all this , nobody shares blame for 80 % movie , which are flop on box office .

Jumaani ji and Ektaa ( Ekta ) Kapoor is still there in Bollywood and letter "K" can still be used but why there is no blockbuster film and serial in last many years ?


Numerology system is not only full of foolish assumptions and experimentations, but it has inherent limitations like which calendar and date system you use for date of birth or name is to be written in Roman alphabets only and not in any other script and so on...

In the interview also, he warns that bad destiny may follow after name change and he tests it 5 times ( How he does that ? ) before recommending a final change.

So, dear readers , see yourself the possibility of correct predictions and changing destiny by number or name change.

People keep on asking me about numerology prediction and I have written this article to state my views on this. In my opinion, planetary astrology (ज्योतिष), palmistry (हस्तरेखा) and your body-signs ( सामुद्रिक शास्त्र ) and omens are the three predictive methods in decreasing order of accuracy for predictions.

 

 

Go Back

What should you opt ? Millions or Happiness !

 

The Cartoon depicts a big dilemma of  those who are serving with  fat salaries.You may say that this problem is withlow paying jobs also .But , in case of low paying jobs , the person does not think  much in quitting and takes up another job.

 But in case of high paying permanent jobs in government , private and public sector ,this question arises every day .

Reasons may vary from excessive working hours ,corruption of higher officials and colleagues ,unethical work practices of  organisation ,political interference and  so on . And when you try to save your  happiness , your boss says same thing,the boss saying in this cartoon...

And Certainly The Choice is Yours : To live unhappily with big money or  live with moderate money and happiness !

 

  

 

Go Back

Understanding a Good or Bad Turn in Destiny

पिछले लेख में मैंने देश , काल व पात्र की विस्तार से चर्चा की थी . अब मैं आपको कुछ कसौटियां दूंगा जिन्हें आप प्रयोग करके यह जान सकेंगे कि स्थान परिवर्तन से हमारी तकदीर में सुखद परिवर्तन होगा या दुखद .

ज्योतिष के अनुसार , यदि आप अपने वर्तमान स्थान पर पहले से ही सुख शान्ति पूर्वक रह रहे हैं और बिना आपके प्रयास से , स्वत: स्थान परिवर्तन का योग, सरल , सहज व स्वाभाविक रूप से बनता है तो ऐसा स्थान परिवर्तन आपको और तरक्की देगा और उसे स्वीकार कर लेना चाहिए . इसका एक और तर्क भी है. कई बार वर्तमान स्थान जो आपके लिए अभी तक अच्छा रहा है , उसके अशांत होने का समय आ चुका होता है और समय आपको उस से बचाने के लिए स्थान परिवर्तन का योग बनाता है. ऐसे योग को अस्वीकार करने के बाद , आपको वर्तमान स्थान दिनो दिन पीड़ादायक लगने लगेगा .

सहज स्थान परिवर्तन का योग अगर बहुत समय तक दुर्भाग्य से परेशान रहने के बाद बने तो ऐसा योग अवश्य ही सुख शांतिकारक होता है.

अगर आप एक ही स्थान पर कई वर्ष सुख शान्ति से रहे हैं ,और फिर कुछ महीने में ही आपकी शान्ति भंग हो चुकने के बाद, गंदे तरीके से स्थान परिवर्तन ( धमकी या षड्यंत्र द्वारा ) का योग बनना ,आपके दुर्भाग्य आरम्भ होने का सूचक है. लेकिन फिर भी स्थान परिवर्तन स्वीकार कर लेना उचित है क्योँकि न करना दुर्भाग्य को और प्रबल कर देगा . स्थान परिवर्तन के कर्म द्वारा दुर्भाग्य का एक अंश समाप्त हो जाता है और उसका दबाव नहीं रहता है.

कई बार स्थान परिवर्तन परिवार में नए सदस्य के आगमन ( शिशु जन्म या विवाह ) या पुराने सदस्य के विदा होने ( मृत्यु, विवाह ,तलाक ,बंटवारा आदि ) के कारण भी होता है और इनका सुखद या दुखद होना इनके कारण के अनुसार होता है.

अब हम तकदीर के बदलने के तीसरे कारण पात्र या व्यक्ति के बारे में चर्चा करेंगे .

 

3. व्यक्तियोँ द्वारा परिवर्तन

तकदीर बदलने का तीसरा और आख़िरी तरीका सजीव व्यक्तियोँ की संगति द्वारा है. अच्छी तकदीर वाले व्यक्ति या उनके द्वारा चलाए जाने वाले संस्थान से जुड़ने से आपकी तकदीर अच्छी हो सकती है और इसका उलटा भी सही है. जैसे चुम्बकीय लोहे के साथ रहने से चुम्बक का कुछ प्रभाव सादे लोहे में आ जाता है , उसी तरह भाग्यशाली व्यक्ति या संस्था के साथ जुड़ने से आप भाग्यशाली व दुर्भाग्यग्रस्त व्यक्ति व उनकी संस्था के साथ जुड़ने से आप दुर्भाग्यग्रस्त हो सकते हैं . विजय माल्या की दुर्भाग्यग्रस्त कम्पनी किंगफिशर एयरलाइन से जो भी जुड़ेगा उसकी दिक्कतें बढनी तय हैं .

लेकिन यह पूरी तरह से आपके हाथ में नहीं है . कारण यह है कि प्रकृति के नियमों के तहत, भाग्यशाली व्यक्ति के साथ समुचित भाग्यशाली व्यक्ति ही लम्बे समय के लिए ,साथ जुड़ सकता है. इसी तरह दुर्भाग्यग्रस्त व्यक्ति , दुर्भाग्यग्रस्त व्यक्ति या संस्था से जुड़ता है.

सजीव व्यक्ति से मिलना या बिछुड़ना सदैव अपने हाथ में नहीं होता है . शादी, तलाक , व्यवसाय , जन्म , मृत्यु आदि विभिन्न ऐसे कारण हैं जो आपके नियंत्रण में नहीं होते हैं ,पर जिनके कारण आप सजीव व्यक्तियोँ से मिलते , बिछुड़ते रहते हैं , और इन की वजह से आपकी तकदीर में परिवर्तन आते रहते हैं .

स्थान परिवर्तन से सुखद या दुखद परिवर्तन जिस तरह से घटित होते हैं , उसी तरह व्यक्ति परिवर्तन भी सुख या दुःख लाते हैं . कोई नया व्यक्ति, आप से किस प्रकार और किन हालात में जुडा और उससे पहली बार मिलने के बाद आपका मन प्रसन्न हुआ या दुखी , इससे यह तय होता है कि व्यक्ति या संस्था आपके लिए सुखद रहेगा या दुखद . इसमें मुख्य भूमिका विचारोँ के मिलने की होती है पर बिना विचार सम्प्रेषण के भी यह तय हो सकता है जैसे नवजात शिशु के आगमन पर होता है.

अगर आप को किसी संस्था में नौकरी या व्यावसायिक अवसर सहज रूप में , बिना किसी व्यवधान के मिला है, तो वह आपके लिए सुखद और अगर बहुत देरी व कष्ट व व्यवधान के बाद मिला है , तो वह आंतरिक रूप से आपके लिए दुखद ही रहेगा . यही बात बच्चे के जन्म के साथ , शादी- विवाह , स्कूल -कालेज के प्रवेश , रोग और मुकदमें में डाक्टर या वकील ढूढने पर भी लागू होती है .

ऊपर मैंने लिखा है कि समय , देश व पात्र को भी प्रभावित करता है . अच्छे समय के वक्त आपको अच्छा स्थान व अच्छे संपर्क मिल जाते हैं और खराब समय में आप को खराब स्थान व व्यक्ति मिल जाते हैं . मेरा अनुभव यह है कि, जब हम अच्छे समय से बुरे समय में प्रवेश करने लगते हैं , उस वक्त मिलने वाले स्थान व व्यक्ति खराब होते हैं , और जब हमारा वक्त अच्छा आने वाला होता है , तब अच्छे स्थान व अच्छे व्यक्ति अपने आप मिलने लगते हैं .

अक्सर लोग वास्तु शास्त्र द्वारा तकदीर बदलने की बात करते हैं . वास्तविकता यही है कि अच्छे वक्त में आप को जो शहर या मकान मिलता है , वह अच्छा ही होता है और वास्तु की कसौटी पर भी सही होता है . लेकिन अगर आप का वक्त सही नहीं है , तो या तो आप मजबूरी में गलत वास्तु के मकान में रहने लगते हैं या आप किसी कारण से सही वास्तु के मकान में टिक ही नहीं पाते हैं .

तकदीर का ऊँट किस करवट बैठेगा , यह आप अपने शरीर लक्षणों से भी ज्ञात कर सकते हैं . जिस जगह पहुँच कर आप का रहना , खाना , सोना सब हराम हो जाए , वह जगह देखने में या अन्य लोगों की नज़र में कितनी ही अच्छी हो , वह आप के लिए लम्बी अवधि में हानिकर ही होगी . और अगर इसका उलटा हो जाए, तो वह जगह सुखदायक होगी .

यही कसौटी व्यक्ति के साथ भी लागू होती है. अगर किसी नए व्यक्ति के साथ जुड़ने के बाद आपकी चिंता - फिक्र बढ़ जाती है , खाना , सोना अस्त व्यस्त हो जाता है , तो यह व्यक्ति लम्बी अवधि में आपके लिए दुर्भाग्यकारक ही होगा . हो सकता कि वह व्यक्ति ऊंचे पद पर होने से आपको कुछ प्रत्यक्ष लाभ देता दिखे , लेकिन वह आपको स्थायी रूप से रोगग्रस्त करके, आपको कुल मिलाकर हानि ही देगा .

अनुभव के आधार पर मैंने तकदीर में बदलाव के जो तरीके पाए , वह मैंने आपके साथ बांटे हैं . असल में , कुंडली द्वारा ज्योतिषी गणना कर के दो तीन विकल्पों पर पहुंचता है और उस समय उनमें से एक विकल्प चुनने में देश , काल और पात्र की तकदीर बदलने वाली कसौटियां काम आती हैं . जो ज्योतिषी इन कसौटियों को नहीं जानते हैं या गणना के बाद इन्हें इस्तेमाल नहीं करते हैं , उनकी भविष्यवाणियाँ अक्सर गलत हो जाती हैं . सही कुंडली से गणना व देश ,काल व पात्र की कसौटी पर कसी भविष्यवाणी अचूक ही होती हैं .

( आप अपनी प्रतिक्रया से अवश्य अवगत कराएं )

Go Back

When My Luck will Strike ?

अक्सर लोग मुझसे पूछते हैं कि मेरी तकदीर कब बदलेगी ? ज़ाहिर सी बात है कि लोग तकदीर अच्छी कब होगी , यह जानना चाहते हैं . कुछ लोग यह पूछते हैं कि क्या करने से तकदीर करवट ले सकती है. आज का लेख विस्तार में यह बताएगा कि " आखिर तकदीर कब बदलती है ? " लेकिन याद रखिये तकदीर बदलने का मतलब बुरे से अच्छा और अच्छे से बुरा दोनोँ से ही है . ज्योतिष  विज्ञान  की भाग्य परिवर्तन पर क्या राय है , मैं उसकी जानकारी  आप को  दे रहा हूँ .


भारतीय ज्योतिष के तीन आधार स्तम्भ हैं :  देश , काल व पात्र . अंग्रेजी में कहें तो   3 Ps ( Place, Period & Person ) से मिलकर एक  तिकोन की रचना होती है जिसके अंतर्गत आने वाला  एरिया आपकी तकदीर के क्षेत्रफल को तय करते हैं . अब मैं  तकदीर के  तिकोने खेत का हिसाब किताब बताता हूँ .   
 
 
जैसा कि आप चित्र में देख सकते हैं , तकदीर के त्रिभुज की तीन भुजाएं हैं :

1. देश या स्थान ( Place )

यह तकदीर तय करने की पहली भुजा है . इसके छोटे या बड़े होने से आपकी तकदीर का क्षेत्रफल कम या ज्यादा हो सकता है. स्थान में कई अर्थ शामिल हैं जो प्याज की परतोँ की तरह लागू होते है. इसमें इकाई के अंक पर आपका रहने , सोने या आफिस का कमरा आता है जो निजी रूप में आपके काम आता है. . दहाई के अंक पर पूरे मकान , फ़्लैट या आफिस का साइज व लोकेशन आती है. सैकड़े के स्थान पर मुहल्ला व हजार के स्थान पर शहर आता है. दस हजारवें पर राज्य व लाखवें स्थान पर देश या राष्ट्र का परिवर्तन आता है.


इस तरह से हम समझ सकते हैं कि स्थान परिवर्तन का फल तकदीर पर अवश्य पड़ता है भले ही वह 1 के बराबर हो या लाख के बराबर. पुन: यह परिवर्तन लाभ या हानि दोनोँ ही कराने में समर्थ है. तो विदेश जाने से आपकी हैसियत बहुत ज्यादा बन सकती है या बहुत कम भी हो सकती है.

2. पात्र या Entity

तकदीर की दूसरी भुजा सजीव व्यक्तियोँ या सजीव व्यक्तियोँ द्वारा संचालित संस्थाओँ से संबधित है. इसमें भी प्याज की परतोँ की तरह छोटे और बड़े लेवल हैं . इसमें सबसे बड़ी परत या लाख वाला अंक आप स्वयं हैं और इसमें आपका स्वास्थ्य , शारीरिक व मानसिक क्षमताएं , मानसिक सोच आदि शामिल हैं . दस हजार की परत पर आपके घर में ज्यादातर स्थायी निवास करने वाले सदस्य हैं, हजार के लेवल पर आपके रिश्तेदार , परिचित , मित्र , पड़ोसी आदि होते हैं . सैकड़े के अंक पर आपके व्यवसाय से जुड़े व्यक्ति , दहाई के अंक पर नौकर , बहुत दूर के रिश्तेदार तथा इकाई के अंक पर अजनबी व्यक्ति आते हैं .

3. काल या Time Period

तकदीर की तीसरी भुजा काल ,समय या युग है. यह भुजा हमारे नियंत्रण से बाहर है और बेहतरी इसी में है कि इसके हिसाब से चला जाए . ऊपर के चित्र में आप देख सकते हैं कि यह भुजा त्रिभुज का आधार है. इसका अर्थ है कि बाकी दोनोँ भुजाएं देश व पात्र भी इसके आधीन हैं .

समय की परतें अंतहीन हैं और इनका प्रत्येक भाग परमाणु की तरह है जो चाहे तो अनंत समय तक निष्क्रिय रहे और जब चाहे तो परमाणु विस्फोट कर सब कुछ अस्त व्यस्त कर दे . आदि शंकराचार्य ने काल की महिमा का वर्णन इस तरह किया है : " मा कुरु धन जन यौवन गर्वं ,हरति निमेषात्कालः सर्वम्" जिसका अर्थ है कि धनबल , जनबल ( Acquaintances) और यौवन का घमंड उचित नहीं है क्योँकि काल या समय इन्हें पलक झपकते नष्ट कर सकता है .

तकदीर के त्रिभुज की तीन भुजाएं हैं . इसका आधार समय अदृश्य है , जबकि पात्र सजीव और स्थान निर्जीव है. इस प्रकार , सबसे ज्यादा समय ताकतवर है और यह तकदीर की बाकी दो भुजाओं स्थान व पात्र को भी क्षण में बदल सकता है जबकि समय को बाकी दो भुजाएं नहीं बदल सकती हैं .

तकदीर कैसे बदल सकती है ?

1 - काल द्वारा

 

ऊपर के विमर्श से यह स्पष्ट है कि तकदीर का मुख्य आधार काल या समय है . मैंने एक अन्य लेख में स्पष्ट किया है कि समय की प्रवृत्ति चक्रीय है यानी यह एक चक्र या गोले जैसा है जो लगातार धीमी गति से घूमता रहता है , इसीलिए हमारी घड़ियाँ गोल होती हैं . समय के चक्रीय होने का प्रमुख कारण हमारे सभी आकाशीय ग्रहोँ आदि का गोल आकार व गोल घूमना है. ज्यादा जानने के लिए यहाँ क्लिक करें http://lekhagar.blogspot.in/2011/09/what-is-scientific-basis-of-forcasting.html

अब वृत्त या गोल आकृति की एक खासियत होती है कि अगर उसके किसी भी बिंदु को सर्वोच्च बिंदु मान लिया जाए तो ठीक 180 अंश बाद उसका निम्नतम बिंदु होगा . इस तरह समय रूपी निरंतर चलते झूले पर सवार व्यक्ति अगर कुछ न भी करे , तो भी एक समय बाद वह उत्थान से पतन व पतन से उत्थान की ओर पहुँच जाएगा .

इसलिए मैंने कहा कि समय रूपी तकदीर की आधार भुजा को तुरंत बदलना आदमी के वश में नहीं है पर अपना समय अधोगति ( downward) पर है या ऊर्ध्वगति पर (upward) , यह जानना संभव है और उसके अनुरूप आप अपनी योजना बना सकते हैं .

यह समय या काल की गति का ही कमाल होता है कि पहले विश्व अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व तेजी आती है और सत्तारूढ़ दल इसका श्रेय अपने अच्छे मैनेजमेंट को देते हैं , और फिर जब समय की गति से अभूतपूर्व मंदी आती है तो सत्तारूढ़ दल उसका दोष विश्वव्यापी मंदी पर डाल कर अपना पल्ला झाड़ लेते हैं .

यह समय की चक्रीय व्यवस्था का ही कमाल है कि राजा - रंक , दिन - रात , तेजी - मंदी , सुशासन - कुशासन , बाढ़ - सूखा , सर्दी - गर्मी , निर्माण-ध्वंस की चक्रीय व्यवस्था हमेशा चलती रही है और भविष्य में भी चलती रहेगी .

 

तो अगर आप यथावत रहें और कुछ भी परिवर्तन नहीं करें तो भी तकदीर का पहिया चलता रहेगा और आपकी तकदीर बदलेगी। जैसे आप बूढ़े हो जाएंगे या आप के आस पास का रहन सहन व परिवेश बदल जाएगा .

उदाहरण के लिए , गुडगाँव के पास एक गाँव का भेढ़ चराने वाला किसान , साठ साल की उम्र में 5 करोड़ का मालिक हो गया, क्योँकि बिल्डरोँ ने उसकी बंजर जमीन 5 करोड़ में इसलिए खरीदी क्योँकि उसकी जमीन के पास से एक्सप्रेस हाइवे निकल गया था . इसी तरह बिहार में कोसी नदी से सटे गाँव के करोडपति किसान , कोसी की 2007 की बाँध फटने से हुई तबाही में रातोँ - रात भिखारी बन गए .ऐसा ही गुजरात के 2001 के भूकंप के समय हुआ था .

कहने का मतलब यह है कि समय द्वारा भी तकदीर का परिवर्तन होता है पर उसे रोकना या बदलना हमारे वश में नहीं है और उसे नम्रता के साथ स्वीकार करना ही उचित है . अब हम स्थान व पात्र परिवर्तन पर विचार करते हैं .

2 . स्थान द्वारा

 

स्थान परिवर्तन , तकदीर बदलने का सबसे सहज उपाय है क्योँकि व्यक्ति- परिवर्तन सजीव होने की वजह से कठिन है. तो अगर आप अपनी तकदीर की वर्तमान हालत से संतुष्ट नहीं हैं , तो स्थान परिवर्तन करके देखिए .तबादले वाली नौकरी करने वाले लोग इस बदलाव को अच्छी तरह जानते और समझते हैं . विदेश जाने से होने वाले कायापलट भी इसके उदाहरण हैं .

कुंडली विशेषज्ञ कई बार आपको बताते हैं कि आपका भाग्योदय दूर देश में है . कई बार इसका उलटा भी होता है . अपने जन्मस्थान या देश में अच्छी तरक्की कर चुके लोग जब अन्य प्रदेशों या विदेश में पैर फैलाते हैं तो उन्हें घाटा शुरू हो जाता है . मैंने स्वयं कई लोगोँ को तकदीर में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए , स्थान परिवर्तन की सलाह दी है.

निसंतान व्यक्ति जो संतान के लिए अनेक उपाय करते हैं , उनके लिए स्थान परिवर्तन का उपाय अक्सर कारगर होता है , ख़ास तौर पर यदि स्थान परिवर्तन सहज रूप से हो रहा हो , जैसे नौकरी में तबादला . इसका एक स्पष्ट कारण भी है कि जिस बच्चे को जिस शहर या मकान या अस्पताल में पैदा होना है , वहां आप को जाना ही पडेगा .

धन कमाने के लिए स्थान परिवर्तन के लिए ज्यादातर लोग तैयार रहते हैं .बिहार से अन्य प्रदेशोँ में जाने वाले श्रमिक , खाड़ी देशोँ में पैसा कमाने जाने वाले , विदेशोँ में व्यवसाय के लिए जाने वाले लोग इसका उदाहरण हैं .

पढ़ने के लिए घर से दूर जाना पुराने ज़माने से होता आ रहा है और उससे भी तकदीर मेँ बदलाव होता है। सेहत खराब होने पर या इलाज के लिए बाहर जाना स्थान परिवर्तन द्वारा तकदीर बदलने का उदाहरण है. इसका एक अन्य उदाहरण भी है. जिस तरह हमारे जन्म का स्थान निश्चित होता है उसी तरह मरने की जगह पर भी व्यक्ति नियत समय पर अवश्य पहुंचता है .


--- दूसरे भाग में पढ़ें " कैसे जाने कि तकदीर परिवर्तन सुखद होगा या दुखद ? "

 

Go Back

5 Blog Posts